७ प्रमुख स्थान जहाँ दिवाली बेहतरीन तरीके से मनाई जाती है भारत में

दिवाली, भारत के प्रमुख्य त्योहारों में से एक है. इतिहास में इसकी व्याख्या प्रसिद्ध काव्य “रामायण” में उल्लेख है. कहा जाता है की अयोध्यापति राम के आगमन पे अयोध्या वासियों ने उनका स्वागत घी के दिए जला कर किये थे. राजा राम चंद्र १४ साल के वनवास के उपरांत, रावण वध के बाद अपने स्वधाम पधारे थे. इस ख़ुशी में सबने उनके स्वागत में घृत के दिए प्रजवल्लित किये. सालों से चली आ रही इस परमपरा को हर भारतवासी इसी तरह से मनाते आ रहे हैं. वर्त्तमान काल में इसका रूप थोड़ा परिष्कृत हो गया है. आजकल दिवाली में दीयों की जगह इलेक्ट्रॉनिक लाइट्स ने ले ली है. मिठाई की जगह मिलावटी भोज्य पदार्थों ने ले ली है, और दिवाली में लोग मिलने जुलने के बजाये अपने घरों में या फिर केवल अपने नज़दीक के लोगों तक ही सिमित हो गयी है.

भारत में आज भी कुछ ऐसी जगहें हैं जहाँ आप दिवाली की छटा महसूस कर सकते हैं. इन्ही प्रसिद्ध स्थलों में कुछ ख़ास स्थल जहाँ दिवाली आज भी बेहतरीन तरीके से मनाई जाती है उनका हम आज जिक्र कर रहे हैं:

  • बनारस (वारानसी):- यहाँ की दिवाली पूरे पूर्वोत्तर भारत में मशहूर है. यहाँ की दिवाली को “देव दीपावली” भी कहते हैं. राजा राम चंद्र के निवास अयोध्या के नज़दीक बसा ये शहर बड़ा ही रमणीक है. उत्तर वाहिनी गंगा के तात पर बसा ये शहर अपने आप में काफी प्राचीन है. यहाँ लोग गंगा के तट पर दिए जलाते हैं तथा गंगा आरती भी करते हैं. बनारस वैसे तो काफी चीज़ों के लिए प्रसिद्द है, जैसे की यहाँ की सिल्क साड़ियां, यहाँ का पान, यहाँ की राबड़ी और यहाँ के घात तथा भोले नाथ का मंदिर. वाराणसी देश के प्रमुख्य स्थानों से रेल, बस और हवाई मार्गों से जुड़ा हुआ है. यहाँ पहुंचना काफी आसान है. दिल्ली हावड़ा रूट में पड़ता है. दिल्ली से यहाँ स्पेशल ट्रैन १२५५९ शिव गंगा एक्सप्रेस से आराम से पहुंच सकते हैं. अगर आप ट्रैन से यात्रा कर रहे हैं तो ये ट्रैन सबसे अच्छी ट्रैन है दिल्ली से यहाँ आने के लिए. ट्रैन यात्रा के दौरान आपको खाने की कोई चिंता नहीं करनी क्योंकि अब आप ट्रैन में ऑनलाइन खाना आर्डर कर सकते हैं.

Dev-Diwali-Varanasi

  • जयपुर:- “गुलाबी शहर” के नाम से प्रसिद्द ये जगह भी दिवाली के लिए काफी मशहूर है. यहाँ पर दिवाली का ऊत्सव ५ दिनों तक चलता है. विदेशी पर्यटक यहाँ की दिवाली देखने भारी मात्रा में आते हैं. पूरा शहर मेला की तरह सज धज के दिवाली मनाता है. यह स्थान भी यातायात के हर साधन से जुड़ा हुआ है. यहाँ पर्यटक ट्रैन या हवाई जहाज से आते हैं.

diwali-in-jaipur

  • मैसुर:- यहाँ की दिवाली सबको याद होगी, क्यूंकि बचपन से दूरदर्शन पे यहाँ की दिवाली में राज महल के सजावट को दिखाया जाता था. मैसूर महलों का शहर है और यहाँ की साज सजावट ही यहाँ की दिवाली की ख़ास बात है. रेल से यात्रा करने के लिए दिल्ली तथा कोलकाता से भी ट्रेंस उपलब्ध हैं.

mysore-diwali

  • कोलकाता:- यहाँ पे इस दिन को “काली पूजा” के रूप में मानते हैं.Diwali-In-Kolkata कोलकाता अपने प्रसिद्ध पंडालों के लिए हमेशा से प्रसिद्द रहा है. इस दिन भी पंडाल दर्शन तथा पूजन में यहाँ लोग व्यस्त रहते हैं. पार्क स्ट्रीट और नई मार्किट इलाके में काफी अच्छे भोजन के आउटलेट्स भी लगते हैं.

 

  • महाराष्ट्र: ऐसा कहा जाता है कि भगवान राम अपने 14 वर्षीय निर्वासन के प्रमुख भाग के लिए पंचवटी में रहे। यह जगह अब महाराष्ट्र राज्य में नासिक के करीब है। पौराणिक संबंध एक तरफ, महाराष्ट्र दिवाली को महान शक्ति के साथ मनाता है। दिवाली के दिन, लक्ष्मी-पूजन दीवाली शाम को मनाया जाता है, जहां ऐसा माना जाता है कि देवी लक्ष्मी घरों में जाती है, जिससे वह बहुत सारी धन और समृद्धि लाती है। दिवाली के दौरान चकाली, शंकर-पीले, अनासे, कदबोली, करंजी, शेव, और अधिक जैसे मुंह से पानी के व्यंजन परोसे जाते हैं, और मराठियों ने अपने घरों को उजागर करने के लिए बाहर ‘आकाश-गोता’ लटका दिया।

diwali-in-Maharshtra

  • तमिलनाडु:- जबकि अधिकांश देश तमिलनाडु में सूर्यास्त में क्रैकर्स के फटने के साथ दिवाली उत्सव को जोड़ता है, यह दिन-दर-दिन होता है। लोग पारंपरिक तेल स्नान करने के लिए सुबह की दरार पर जागते हैं।Diwali-In-Tamilnadu सुगंधित काली मिर्च, सूअर की पत्तियां और अन्य अवयवों को पूर्व-स्नान मालिश के लिए गर्म तेल से ढका दिया जाता है। स्नान करने के बाद, नए कपड़े पहने जाते हैं और ‘दीपावली लेहीम’ नामक एक टॉनिक को आगे के त्यौहार के अग्रदूत के रूप में जाना जाता है। फिर, पटाखे और चमक की फटकार आती है। यहां वास्तव में शाम तक उत्सव मनाते हैं – समय के उत्सव भारत के अन्य हिस्सों में अपने चरम पर आते हैं। अधिकांश तमिलवासी इस दिन भगवान कृष्ण के हाथों, एक डरावनी राक्षस, नारकसुर की मृत्यु के रूप में मनाते हैं।

 

  • पुष्कर:- राजस्थान के दिल में एक धार्मिक शहर, पुष्कर पुराने दुनिया के आकर्षण, स्वर्गीय छेड़छाड़ और व्यापारिक गोगों का एकदम सही मिश्रण जोड़ता है।
    स्नान घाटों को बैकवुड में वापस लाने, रैपिंग, ड्रम और गोंग के एक एपिसोडिक साउंडट्रैक के साथ सड़कों पर घूमने वाले सड़कों का संग्रह छुट्टियों की सूची पर एक गुप्त अनुभव उत्पन्न करता है।diwali-in-pushkarअजमेर शहर से लगभग 11 किलोमीटर दूर, यह छोटा ऊर्जावान शहर हिप्पी और विदेशी यात्रियों के एक बड़े समूह के रास्ते से घिरा हुआ था।पुष्कर से देखने के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि आपका मनाया ऊंट मेला हो सकता है, जहां इस मेले में लगभग 50,000 ऊंट भाग लेते हैं, निश्चित रूप से नवंबर से आने वाली सबसे अच्छी चीजों में से एक है और दक्षिण-पूर्व एशिया में अपने रूपों में से एक बनने का दावा किया है।
    इन सभी ऊंटों को रंगीन सजावट और कपड़ों में तैयार किया जाता है और साथ ही रैंप में बहाव करने के लिए पूरी तरह से ले जाया जाता है, व्यापार के साथ दौड़ में भाग लेते हैं।

 

७ प्रमुख स्थान जहाँ दिवाली बेहतरीन तरीके से मनाई जाती है भारत में

Amit Roy


Amit is a Digital Marketing Strategist at Railrestro. He is a marketing maven with proven track record when it comes to digital marketing. In short he’s the buzz creator over digital platforms for every business verticals he handles and help the client achieve their target ROI. His hobbies include travelling, listening music and reading science fictions.


Post navigation


One thought on “७ प्रमुख स्थान जहाँ दिवाली बेहतरीन तरीके से मनाई जाती है भारत में

Leave a Reply

Show Buttons
Hide Buttons
%d bloggers like this: