COVID-19

कोरोना वायरस के कारण पूरे देश और दुनिया में हाहाकार मचा रखा है,अब कोरोनावायरस को रोकने के लिएएक एप लांच किया गया है।इसके अलावा कई तरह की हेल्पलाइन व वेबसाइट भी बनाई गई हैं जो कोरोना के बारे में अपडेट देती रहेंगी।कोरोनावायरस के फैलाव को रोकने के लिएभारत सरकार लगातार नए नए प्रयास कर रही है।अब इसने आरोग्य सेतु नाम के एप को लांच किया जिसका स्टेबल वर्जन लॉन्च किया गया।इस एप को आप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं।इस ऐप का मुख्य उद्देश्य है स्वास्थ्य विभाग की पहल को आगे बढ़ाना। इसमें आपको बेस्ट प्रैक्टिसेज और सलाह के संबंध में सूचना भी मिलती रहेगी।
आरोग्य सेतु एप के बारे में बता दें कि इसको आईओएस और एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म पर 11 भाषाओ में उपलब्ध कराया गया है।कोविड-19 हेल्थ सेंटर्स और सेल्फ एसेसमेंट टेस्ट भी उपलब्ध कराया गयाहै।इसमें कोविड-19 को कैसे रोके जैसी कई जानकारियाँ भी उपलब्ध कराई गयींहैं।कोविड-19 के खिलाफ हमारी लड़ाई में आरोग्य सेतु एक महत्वपूर्ण कदम है। प्रौद्योगिकी का लाभ उठाकर, यह महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है। जैसे-जैसे अधिक से अधिक लोग इसका उपयोग करेंगे, इसकी प्रभावशीलता बढ़ेगी।

पीएम मोदी ने की थी एप डाउनलोड करने की खास अपील
14 अप्रैल को कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग में लॉकडाउन की अवधि तीन मई तक बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने धैर्य व नियमों के पालन का आह्वन किया व राष्ट्र के नाम संदेश देते हुए सात बातों में देशवासियों का सहयोग मांगा जिसमें से चतुर्थ अहम बात कोरोना वायरस का फैलाव रोकने के लिए आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने व दूसरों को भी यह एप डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करने का संदेश हैं, जो इस कोरोना नामक अदृश्य शत्रु का पता लगाने के लिए एक शस्त्र की भांति कार्य कर रहा है।

कैसे उपयोग करे आरोग्य सेतु एप?

आपको सबसे पहले गूगल प्ले स्टोर पर जाकर आरोग्य सेतु को डाउनलोड करना होगा। इसके बाद एप ओपन करें और भाषा को सेलेक्ट कर लें।एप को ओपन करने बाद परमिशन का पेज ओपन होगा जिसमें आपको एक बार ‘स्किप’ करना होगा।रजिस्टर पर टाइप करने के बादआपकी लोकेशन एक्सेस मांगी जाएगी, उसे ‘अल्लॉव’ करें। इसके बाद आपको मोबाइल नंबर डालना होगा जिस पर ओटीपी आएगा – इसे डाल दें।कुछनिजी जानकारी भी मांगी जाएगी जिनको फिल करना होगा।अब इसके बाद में जो पेज ओपन होगा उसमें देश के लेवल दिखाया जाएगा ,इसके अलावा कोविड-19 के हेल्प सेंटर और सेल्फ एसेसमेंट टेस्ट भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

आरोग्य सेतु एप ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड
इसके महत्त्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आरोग्य सेतु नामक यह एप मात्र 13 दिनों में पांच करोड़ लोगों द्वारा डाउनलोड करने वाला विश्व का पहला रिकॉर्ड एप बन चुका है। नीति आयोग के एक अधिकारी के ट्वीट में इस बात का जिक्र किया गया कि टेलिफोन को पांच करोड़ लोगों तक पहुंचने के लिए 75 वर्ष, रेडियो को 38 वर्ष, टेलीविजन को 13 साल, इंटरनेट को 4 वर्ष, फेसबुक को 19 माह, पोकेमान को 19 दिन व आरोग्य सेतु एप को पांच करोड़ लोगों द्वारा डाउनलोड करने में केवल 13 दिन लगे जिसने न केवल एक विश्व रिकॉर्ड का कीर्तिमान स्थापित किया अपितु इससे आरोग्य सेतु एप के महत्त्व का आकलन भी होता है।

कांटेक्ट ट्रेसिंग एप है आरोग्य सेतु

यह एप न केवल हमारे आसपास मौजूद कोरोना संक्रमित मरीजों के बारे में सावधान करता है अपितु साथ में इस संक्रमण के खतरे के स्तर को भी बताता है। आरोग्य सेतु एप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों पर उपलब्ध है। इसे एप स्टोर के जरिए डाउनलोड किया जा सकता है। आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने पर यह हमसे खांसी, सर्दी, बुखार,सांस लेने में तकलीफ, ट्रेवल हिस्ट्री आदि की जानकारी लेता है। जरूरी यह है कि हम इसमें बिलकुल सही जानकारी दें क्योंकि यह एक कांटेक्ट ट्रेसिंग एप है जो रक्षा कवच की तरह हमारे लिए काम करता है। इस एप का डाउनलोड बिलकुल फ्री है व यह ग्यारह भाषाओं में जानकारी लेता व देता है।

ई-पास के रूप में इस्तेमाल किया जा सकेगा आरोग्य सेतु

कोरोनावायरस ट्रैकिंग के लिए बनाई भारत सरकार की एप आरोग्य सेतू (Aarogya Setu app) के जरिए जल्द ही लोगों को लॉकडाउन के दौरान जरूरी काम के लिए ई-पास जारी किए जा सकते है । भारत सरकार के अधिकारी के सूत्रों ने की तरफ से मिल रही जानकारी के मुताबिक आने वाले दिनों में आरोग्य सेतू एप को ई पास के रूप में भी इतेमाल किया जा सकता है और भविष्य में इस एप से ई-पास जारी किए जाएंगे। ई पास का यह फीचर जल्द ही आरोग्य सेतु में शुरू हो सकता है।

जरूरी काम के लिए आरोग्य सेतु से ई-पास बनवा पाएंगे
बता दें कि ई-पास के जरिए लोग शहर में जरूरी काम के लिए ट्रैवल कर पाएंगे। अभी तक लोगों को ई-पास के लिए फोन से मैसेज, व्हाट्सएप या फिर ऑनलाइन अप्लाई करना होता था। अब कुछ दिनों में लोग आरोग्य सेतू एप के जरिए जरूरी काम के लिए ई-पास बनवा पाएंगे। फिलहाल आरोग्य सेतु एप में ई पास के सेक्शन में “coming soon” का नोट दिखाई देता है जिससे यह बात स्पष्ट है कि आनेवाले समय जल्द ही भारत वासी इस एप का इपास के रूप में भी इस्तेमाल कर पाएंगे ।

आरोग्य सेतु का चंद आबादी तक सीमित होना चिंता का विषय


आरोग्य सेतु एप भीड़ वाली जगहों में किसी शख्स के कोरोमा संक्रमित या लक्षण होने का नोटिफिकेशन देता है। हालांकि इस मोबाइल एप की पहुंच देश की चंद आबादी तक ही सीमित है। टेलिकॉम रेगुलेटरी ऑथोरिटी ऑफ इंडिया यानि ट्राई की रिपोर्ट इस बात की तस्दीक़ करती है कि देश की 25 फीसदी आबादी के पास ही स्मार्टफोन है। यानि करीब 34 करोड़ लोग ही स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं। जबकि हम कुछ ख़ास एपलिकेशन जैसे व्हॉट्सएप, पेटीएम और इंस्टाग्राम के यूज़र की बात करें, तो इनमें केवल 20 फीसदी यानि करीब 30 करोड़ लोग ही इन एपलिकेशंस का इस्तेमाल करते हैं। हालांकि आरोग्य सेतु अबतक केवल पांच करोड़ लोगों ने ही डाउनलोड की है यानि देश की आबादी का 3.8 फीसदी। इसके अलावा करीब 66 करोड़ यानि 50 फीसदी आबादी के पास वायरलेस इंटरनेट कनेक्शन है। वहीं देश के 61 फीसदी घरों में टेलिविज़न है।


लोगों से निवेदन है कि अपने मोबाइल में आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करें एवं अन्य लोगों को भी इसे डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करें। यह ऐप कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के समीप आते ही आपको सतर्क करेगा और आपको बेहतर चिकित्सा सलाह की जानकारी से अवगत करवाएगा। आप सुरक्षित और स्वस्थ रहेंगे तभी देश सुरक्षित रहेगा।
Also Read: 15 Safe Steps to Avoid Coronavirus While ATM Cash Withdrawal

Recent Posts


Author: Aashish Ranjan


Aashish Ranjan has worked as News Reporter & Content Writer with 3 years of expertise in assigning, shaping and directing news stories. He is dedicated to covering all relevant news with speed & accuracy. He has graduated in Mass Communication .